हिंदी फिल्म राम तेरी गंगा मैली. राम तेरी गंगा मैली हो गई हिंदी लिरिक्स 2018-07-14

हिंदी फिल्म राम तेरी गंगा मैली Rating: 7,2/10 1290 reviews

राम तेरी गंगा मैली हो गई

हिंदी फिल्म राम तेरी गंगा मैली

कई फिल्में तो ऐसी रहीं जिनका नाम इतिहास के पन्नो में दर्ज है. मंदाकिनी ने डॉ काग्युर टी रिनपाचे ठाकुर के साथ घर बसा लिया है. यही पर वो आयुर्वेद से जुड़े कई काम करती है. वह तिब्बत का हर्बल सेंटर भी चलाती हैं. मंदाकिनी ने फेसबुक पर तस्वीरें शेयर की हैं, हालांकि यह उनका वैरिफाइड अकाउंट नहीं है.

Next

'राम तेरी गंगा मैली' में तहलका मचाने वाली मंदाकिनी नहीं थी फिल्म की पहली पसंद

हिंदी फिल्म राम तेरी गंगा मैली

आइये जानते हैं कि वह आज कैसी दिखती हैं और क्या कर रही हैं. वैसे आपको बता दे कि मंदाकिनी का असली नाम यास्मीन जोसेफ था. हालांकि अब वो फिल्मो की चकाचौंध से काफी दूर जा चुकी है और एक अलग ही जिंदगी बीता रही है, लेकिन ये कहना भी गलत नहीं होगा कि वो अपनी इस नयी जिंदगी से बेहद खुश है और काफी अच्छा जीवन जी रही है. इसके बाद उनके बच्चे भी हुए और फिर उन्होंने फ़िल्मी दुनिया को मानो छोड़ ही दिया. सही क्या है,कुछ कहा नही जा सकता. हिंदी फिल्म इंडस्ट्री बॉलीवुड में अक्सर बहुत सारी ऐसी फिल्मे होती है जिसमे अश्लील और उत्तेजित करने वाले सीन्स की भरमार होती है. जी हां इसके बाद तो वो अपनी निजी जिंदगी में ही व्यस्त हो गई.

Next

हिंदी फिल्म संगीत का खजाना : HFM Treasure: तुझे बुलायें ये मेरी बाहें

हिंदी फिल्म राम तेरी गंगा मैली

मंदाकिनी अब सादगी का जीवन बिता रही है. आपके ब्लॉग का नाम 'आधा सच' मुझे बहुत सार्थक लग रहा है. खबरो के मुताबिक मंदागिनी दाउद की गर्लफ्रेंड थी दोनों की एक साथ की तसवीरें काफी वायरल हुई , उनको लोगो ने कई बार साथ देखा! बॉक्स ऑफिस के मुताबिक इस फिल्म ने अपने रिलीज के पहले दिन ही 8 करोड़ रुपये से ज्यादा की कमाई की है, वहीं इस फिल्म के दूसरे दिन इसकी कमाई में 40 प्रतिशत का आढ़ती कमाई देखने को मिला है. इमेज कॉपीरइट Rajshri Films Image caption रवींद्र जैन की कामयाब फ़िल्मों में 'चितचोर' का नाम लिया जाता है रवींद्र जैन जैसे विलक्षण संगीतकार की पूरी देन एक ऐसे प्रबुद्ध कलाकार के योगदान की तरह रेखांकित की जा सकती है, जिन्होंने संगीत-निर्देशन के साथ-साथ गीत और कविता लिखने का भी बहुत ही सफल और सार्थक काम किया है. राजकपूर की 'राम तेरी गंगा मैली' उनकी पहली फिल्म थे.

Next

इन फिल्मों के बाद निरुपा रॉय की होने लगी थी पूजा

हिंदी फिल्म राम तेरी गंगा मैली

फ़िलहाल आज कल वो योगा सिखाती है. यानि वो अब अपने जीवन में अपने पति और बच्चो के साथ काफी खुश है. मेहनत से लिखी गई जानकारीपूर्ण प्रस्तुति के लिए आभार. बॉलीवुड फिल्म जगत में कई ऐसी एक्ट्रेस रह चुकी हैं, जिन्होनी अपनी पहली ही फिल्म से दर्शको के दिलो में अपनी ख़ास जगह बना ली थी. फ़िल्म राम तेरी गंगा मैली ने बहुत सारे रिकॉर्ड कायम किए। फ़िल्म सन १९८५ की सबसे बड़ी हिट फ़िल्म थी। इसके बाद अमिताभ बच्चन अभिनीत फ़िल्म 'मर्द' का नम्बर आता है। एक नई अभिनेत्री मन्दाकिनी जिनका असली नाम यास्मीन रॉय है , को लेकर बनाई गई यह फ़िल्म काफ़ी चर्चित रही। बहुसितारा फ़िल्म से कई लोगों को फ़ायदा पहुँचा। कुलभूषण खरबंदा जिनकी गाड़ी फ़िल्म शान के बाद अटक सी गई थी, आगे बढ़ गई। रज़ा मुराद जो फिल्मों से गायब से हो गए थे, उनकी भी उपस्थिति इस फ़िल्म के बाद बढ़ गई। इसके पहले रज़ा मुराद शायद 'एक दूजे के लिए' फ़िल्म में दिखाई दिए थे। मेरा आशय चर्चित और हिट फिल्मों से है। राज कपूर केदार शर्मा के असली शिष्य थे। उनकी फिल्मों में हिरोइन साल दर साल बारिश या झरने में भीगती नज़र आती रही। इस फ़िल्म में भी एक दृश्य है , यूँ कहिये पूरा गीत ही है। रवीन्द्र जैन से अच्छी मेहनत करायी गई है इस फ़िल्म के संगीत के लिए जो हर धुन से स्पष्ट है। इस गीत की दृश्यावली मनमोहक है। गाने के बोल: तुझे बुलायें ये मेरी बाहें न ऐसी गंगा कहीं मिलेगी मैं तेरा जीवन मैं तेरी किस्मत कि तुझको मुक्ति यहीं मिलेगी मेरे ही पास तुझे आना है तेरे ही साथ मुझे जाना है मेरे ही पास तुझे आना है तेरे ही साथ मुझे जाना है गंगा ये तेरी है फ़िर कैसी देरी है आ जा रे, आ जा रे अब आ भी जा तू आ भी जा, हो ओ आ भी जा पहाड़ियों की बुलंदियों से सभी चनारों के दरमियाँ से कभी नज़र से कभी जबान से तुझे पुकारा कहाँ कहाँ से तू जिसकी खोज में आया है वो जिसने तुझको बुलाया है पर्वत के नीचे है झरने के पीछे है आ जा रे, आ जा रे अब आ भी जा तू आ भी जा, हो ओ आ भी जा कोहरे की चादर लपेटे हूँ पानी में ख़ुद को समेटे हूँ कोहरे की चादर लपेटे हूँ पानी में ख़ुद को समेटे हूँ बाहों के घेरे में मन के बसेरे में आ जा रे, आ जा रे अब आ भी जा तू आ भी जा, हो ओ आ भी जा Bollywood Film Songs, Hindi Songs, Hindi Film Songs, Hindi Film Video Songs, Singers, Song Lyrics, Hindi Song Lyrics, Music Directors, Musicians, Arrangers, K. आज जिस खुबसुरत अभिनेत्री की हम बात कर रहे हैं, उन्हें 80 के दशक में बॉलीवुड की सबसे ग्लैमरस हीरोइन माना जाता था. बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप कर सकते हैं.

Next

फिल्‍म ‘राम तेरी गंगा मैली’ से मशहूर हुई मंदाकिनी की हो गई है ये हालत, दिखती है ऐसी

हिंदी फिल्म राम तेरी गंगा मैली

फिल्म के लीड एक्टर राजीव कपूर से ज़्यादा मंदाकिनी चर्चा में थी और इसका कारण था फिल्म में झरने के नीचे सफेद कपड़े पहन कर मंदाकिनी का भीगने वाला सीन. मंदाकिनी का नाम अंडरवर्ल्ड डॉन दाऊद इब्राहिम के साथ भी जोड़ा गया, लेकिन मंदाकिनी की ओर से इस पर खुलकर कोई जवाब नहीं दिया गया. भोजपुरी मूवी 'संघर्ष' में काजल राघवानी वही सीन परदे पर करती नजर आएंगी जो 'राम तेरी गंगा मैली' में मंदाकिनी ने किया था. आज हम जिस अभिनेत्री की हम बात करने जा रहे है, वो एक समय में बॉलीवुड इंडस्ट्री में काफी पॉपुलर हुयी थी. नई दिल्ली: राजकपूर की 'राम तेरी गंगा मैली' से रातों रात चर्चा में आई मंदाकिनी ने अचानक बॉलीवुड को छोड़ दिया था. इस ब्लॉग पर रचनाकार के विचार उसके अपने हैं, जरूरी नहीं पढने वाले उससे सहमत हो. यह वह गीत है, जिस गीत में दर्द और रूमान का बड़ा उदात्त पक्ष गायिकी और संगीत के चलते छलक सका, जिसे रवींद्र जैन ने रचकर अमर बनाया.

Next

पहाड़ों का एक खूबसूरत गाना फिल्म है राम तेरी गंगा मैली

हिंदी फिल्म राम तेरी गंगा मैली

जिसमे मन्दाकिनी ने धमाकेदार एक्टिंग की थी. मंदाकनी डॉन दाउद इब्राहिम से कनेक्शन के चलते वह सुर्खियों में बानी थी. जल्द ही उन्होंने बॉलीवुड को अलविदा कह दिया. फिर भी, खुद की प्रतिभा और संगीत के प्रति वैविध्य टटोलने वाली उनकी दृष्टि ने इन फ़िल्मों में भी नवाचारी तौर पर संगीत के लिए हरारत और रंगत भरी है. और 'अँखियों के झरोखे से' की वो कर्णप्रिय शीर्षक गीत की धुन, जो आज भी एकदम नई लगती है. है और बिलकुल है। सो लिखता ही रहूंगा। तो यह लिखना भी पीड़ा को सिर्फ जमानत भर देना तो नहीं है? इनमें प्रमुख रूप से 'चितचोर' का गीत 'जब दीप जले आना जब शाम ढले जाना', 'गीत गाता चल' का 'श्याम तेरी बंशी पुकारे राधा नाम' और 'राम तेरी गंगा मैली' का 'एक राधा एक मीरा दोनों ने श्याम को चाहा' आएंगे. इसके इलावा मंदाकिनी ने अपना एक औषधालय भी खोल रखा है.

Next

फिल्म ‘राम तेरी गंगा मैली’ की न्‍यूड सीन देने वाली एक्ट्रेस, सालो बाद दिखने लगी है अब ऐसी !

हिंदी फिल्म राम तेरी गंगा मैली

उनकी शादी बेहद ही छोटी उम्र में हो गयी थी. राज कपूर ने इस फिल्म के ज़रिये पहले संजना कपूर को लांच करने का सोचा था. चुनाव के दौरान हाथ जोड़कर लोगों से वोट मांगना ये साधु संतों का काम है। फिर स्वामी पर वैसे ही तमाम आरोप लगते रहे हैं, अब उनकी ही शिष्या ने स्वामी जी के चरित्र पर जिस तरह से सवाल उठाए हैं उससे तो उनकी रही सही भी खत्म हो गई है। स्वामी जी मैं तो आपसे यही कहूंगा कि फिलहाल ऐसा कुछ कीजिए जिससे भगवा वस्त्र की गरिमा बनी रहे। जिस तरह के सवाल आज आपसे किए जा रहे हैं उसके बारे में खुद मनन करें। देश के लोगों की आज भी आश्रमों, साधु, संतों में बडी आस्था है, इस आस्था को तार तार ना होने दें। ऐसा ना हो कि गंगा किनारे स्थित आपके आश्रम से ये गंगा मैली हो जाए। साध्वी चिदर्पिता का भी साध्वी जीवन विवादों से भरा रहा है। कहा जा रहा है कि आपकी नजर स्वामी जी के करोड़ों के साम्राज्य पर थी। इसे ही हथियाने के लिए आपने ये छोटा रास्ता चुना और स्वामी जी के करीब आईं। यहां आपने साध्वी धर्म का कितना पालन किया ये तो आप ही बेहतर बता सकती हैं लेकिन आपकी रिपोर्ट से साफ हो गया है स्वामी ने आपके साथ बलात्कार किया। इससे जाहिर है कि आपके साध्वी होने पर प्रश्न खड़ा हो गया है। फिर मेरी एक बात समझ में नहीं आ रही है कि एक ओर आप स्वामी जी से सन्यास लेने की बात कर रही थीं, दूसरी ओर आपके मन में प्रेम भी पनप रहा था। ये दोनों बातें एक साथ कैसे संभव हो सकती हैं। आपके साध्वी होने के बावजूद प्रेम का पक्ष इतना मजबूत था कि आपने आश्रम से भागकर शादी कर ली,जाहिर है कि आश्रम में रहने के दौरान आपका कुछ चल रहा था, वरना शादी तो एक दिन में नहीं होती है। ये तो खुद साध्वी कहती हैं कि मुझे स्वामी जी मारते पीटते रहे, लेकिन किस बात पर इसका खुलासा नहीं किया गया। कहा ये जा रहा है कि अब साध्वी को लगने लगा था कि स्वामी जी को उसकी जरूरत है। स्वामी जी की तमाम इच्छाएं साध्वी के बगैर पूरी नहीं हो सकतीं थीं, साध्वी इसी का फायदा उठा रही थीं। उनकी महत्वाकांक्षा लगातार बढती जा रही थी । पहले तो उनका दबाव था कि स्वामी जी अपना उत्तराधिकारी उन्हें घोषित करें। उत्तराधिकारी भी सिर्फ आश्रम या स्कूल कालेज का ही नही बल्कि राजनीतिक उत्तराधिकारी भी बनना चाहतीं थीं। उन्होंने चुनाव लड़ने की इच्छा भी चिन्मयानंद से जाहिर की। इस पर स्वामी जी भड़क गए। उन्हें लगा कि ये साध्वी अब उन पर हावी होने की कोशिश कर रही है, लिहाजा उन्होंने जमकर फटकार लगा दी। कहा तो यही जा रहा है कि इसके बाद ही साध्वी ने अलग रास्ता चुना। स्वामी के गुस्से से साफ हो गया था कि यहां से उनके हाथ कुछ लगने वाला नहीं है। उन्हें लगा होगा कि शायद यौन उत्पीड़न के आरोप से स्वामी जी घबरा कर उन्हें बुलाएंगे और कुछ समझौता होगा। पर स्वामी जी ने अभी तक नरमी के कोई संकेत नहीं दिए हैं और पूरी घटना को एक साजिश भर बता कर पल्ला झाड ले रहे हैं। बहरहाल साधु संतों पर आए दिन अब यौनाचार जैसे गंभीर आरोप लग रहे हैं। संतो को समझना होगा कि ऐसा वो क्या करें जिससे और कुछ ना सही लेकिन चरित्र पर धब्बा ना लगे। ये भगवा भी अगर दागदार हो गया तो समाज में लोगों का साधु संतो पर से भी भरोसा डिग जाएगा। मेरा तो सिर्फ इतना कहना है की दोष साधू - संतों का नहीं दोष हमारे समाज में रहने वाले हर उस व्यक्ति का है जिसने इन्हें इतनी छुट दी हुई है की इनको खुद अपनी गलती का पता नहीं चलता वो समझते हैं की वो इस आड़ में रहकर कुछ भी कर सकते हैं और लोग इतना सब देखने सुनने के बाद भी इन्हें उतना ही सम्मान देते हैं तो उनकी क्या गलती ये सब तो आपको और हमें समझना है की कौन किस लायक है तभी तो ये संभल २ कर कदम बढायेंगे आपके लेख से बहुत सी जानकारियां मिली पढकर बहुत अच्छा लगा बहुत २ शुक्रिया bahut achche vishay par likha hai main to pahle se hi in sabhi babaon ko paakhandi manti hoon bahut saal pahle maine bhi haridwar ke ek aashram me esa hi kuch dekha tha. मंदाकिनी ने एक पूर्व बौद्ध भिक्षु डॉ कागीर टी रिनपोछे ठाकुर से शादी की है. इसके अलावा मंदाकिनी तिब्बत योगा भी सिखाती हैं। वह तिब्बत का हर्बल सेंटर भी चलाती हैं ।. परजान दस्तूर परजन दस्तूर ने चाइल्ड कलाकार के रूप में काफी नाम कमाया था. दरअसल, कई बार फिल्मों में सितारे खुद नहीं बल्कि उनके बॉडी डबल यानि की उसके डुप्लीकेट यह सीन करते हैं.

Next

इन फिल्मों के बाद निरुपा रॉय की होने लगी थी पूजा

हिंदी फिल्म राम तेरी गंगा मैली

उस वक़्त वो सिर्फ 15 साल की थी जब उनकी शादी कमल रॉय से हुयी थी. सबके अपने अपने स्वार्थ और मजबूरियां हैं जी. रिनपोचे ठाकुर के साथ उन्होंने 1996 में शादी रचा ली। रिनपोचे ठाकुर मर्फी बेबी के साथ काफी फेमस हुए थे। मंदाकिनी-रिनपोचे की बेटी राबजी इनाया ठाकुर हैं। साल 2010 में इनके बेटे राबिल ठाकुर की सड़क दुर्घटना में मौत हो गई थी। पति के साथ मुंबई में हैं मंदाकिनी मंदाकिनी ने 80 के दशक में अपने अभिनय और बोल्ड अंदाज से दर्शकों को दीवाना बना दिया था। हालांकि, दाऊद के साथ नाम जुड़ने के बाद उनके फिल्मी करियर पर जल्द ही ग्रहण लग गया। फिल्म से संन्यास के बाद भी मंदाकिनी बहुत खुश हैं। वो अपने पति डॉक्टर कग्यूर टी. बता दें की इस फिल्म ने रिलीज होने के पहले दिन से ही बॉक्स ऑफिस पर धमाल मचा रहा है. मुंबईः 1985 में 'राम तेरी गंगा मैली' से फिल्म इंडस्ट्री में पहचान बनाने वाली अभिनेत्री मंदाकिनी 46 साल की हो गई हैं। उन्होंने अपने फिल्मी सफर की शुरुआत 1985 में बंगाली फिल्म 'अंतारेर भालोबाशा' से की थी। 1985 में ही फिल्म 'मेरा साथी' के साथ उन्होंने हिंदी सिनेमा में कदम रखा। इसी साल उन्होंने दो फिल्में 'आर पार' और 'राम तेरी गंगा मैली' की। राज कपूर के डायरेक्शन में बनी 'राम तेरी गंगा मैली' बॉक्स ऑफिस पर बड़ी हिट साबित हुई। इस फिल्म ने मंदाकिनी के करियर को नया मुकाम दे दिया था। मंदाकिनी ने कामयाब होने के लिए इस फिल्म में कुछ ऐसे सीन्स दिए, जो आज भी चर्चित हैं। उन्होंने बोल्ड सीन्स देने से परहेज नहीं किया, शायद यही वजह रही कि उनका फिल्मी करियर रफ्तार के साथ आगे बढ़ गया था। 1985 में शुरू हुआ मंदाकिनी का करियर 1996 में 'जोरदार' के साथ खत्म हो गया। फिल्मों से सन्यास लेने के दो साल पहले यानी 1994 में मंदाकिनी का नाम अंडरवर्ल्ड डॉन दाऊद इब्राहिम के साथ भी जुड़ा। क्रिकेट के मैदान पर उन्हें दाऊद के साथ कई बार देखा गया। 80 के दशक में दर्शकों के दिल पर राज करने वाली मंदाकिनी इन दिनों तिब्बतन योगा की क्लासेस चलाती हैं और वो दलाई लामा की फॉलोअर हैं। 16 साल से शुरू किया फिल्मों में काम मंदाकिनी का जन्म 30 जुलाई, 1969 को एंग्लो-इंडियन फैमिली में मेरठ में हुआ था। उनके पिता जोसफ ब्रिटिश नागरिक थे, जबकि मां मुस्लिम थीं। उनके बचपन का नाम यास्मीन जोसेफ था। मंदाकिनी महज 16 साल की उम्र में ही फिल्मी दुनिया में चली गईं। राज कपूर ने उन्हें 1985 में 'राम तेरी गंगा मैली' में अपने बेटे राजीव कपूर के साथ काम करने का मौका दिया। ये फिल्म हिट रही साथ ही मंदाकिनी को फिल्मफेयर बेस्ट एक्ट्रेस के लिए नॉमिनेट भी किया गया। ये फिल्म आज भी लोगों के बीच में दो सीन्स के लिए चर्चित है। 'राम तेरी. एक बेटा रब्बील और बेटी रब्जा इनाया ठाकुर. बॉलीवुड में आने के बाद निरुपा रॉय ने अपना नाम बदल लिया था.


Next

राम तेरी गंगा मैली हो गई

हिंदी फिल्म राम तेरी गंगा मैली

हालांकि उनके भाई और फिल्म के को-प्रोड्सूर ने इसका खुलासा किया था. तो आईये जानते है राजकपूर के निर्देशन में बानी फिल्म 'राम तेरी गंगा मैली' से जुडी कुछ खास बातें. अभ्यास के लिए सहज बनाया. कहा जाता है कि इस फिल्म में जो नंदिता का न्यूड सीन था तो उनकी डुप्लीकेट ने फिल्माया था. उन्होंने अपने रोल से लोगों के दिलों पर इस तरह राज किया की लोग उन्हें हक़ीक़त में देवी मानने लगे थे. इस फिल्म की हर एक सीन देखने के बाद किसी का रोंगटे खरे करने के लिए काफी है. आप हमें और पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.

Next